शीर्षासन को आंसुओं में सबसे उत्तम कहा जाता है इसका वैज्ञानिक प्रयोग परीक्षण किए जा रहे हैं सर्वप्रथम आयरलैंड के थर्ड क्लीनिक ऑफ मेडिसिन के डायरेक्टर एलेग्जेंडर बीच में शीर्षासन के द्वारा शरीर के अवयव पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन वैज्ञानिक ढंग से किया !

उन्होंने शारीरिक एवं मानसिक रुप से संतुलित स्वास्थ्य वाले व्यक्ति पर शीर्षासन के प्रभाव को देखने के लिए एक्सप्रेस एवं ईसीजी आदि उपकरणों की सहायता ली !
प्रशासन जूलियन ने उस व्यक्ति को खाली पेट की स्थिति में 340 मिनट शीर्षासन कराकर शवासन में विश्राम कराया आसन के पूर्व एवं बाद परीक्षणों में निबंध निष्कर्ष निकले शीर्षासन से रखते को जमाने वाले पदार्थ शिवम जो रक्त में पाया जाता है !

Advantage of Shirshasan Yoga | शीर्षासन के फायदे
Advantage of Shirshasan Yoga | शीर्षासन के फायदे

उसकी मात्रा में संतुलन आने लगता है उन्होंने शीर्षासन के अभ्यास से हरिद्वार लोगों के द्वारा की जा सकने की संभावना व्यक्त की है व्यक्त में श्वेत कण में वृद्धि पाई गई जिनसे शरीर की जीवनी शक्ति एवं रोग निरोधक क्षमता में वृद्धि पाई गई शीर्षासन की स्थिति में एक्सप्रेस द्वारा देखे जाने पर वक्ष स्थल फैला हुआ पाया एवं हृदय पूरी तरह दबाव रहित देखा गया फेफड़ों को पर्याप्त खुला स्थान मिलता है !

फेफड़ों में ऑक्सीजन की तेतीस पर्सेंट की वृद्धि देखि गई तथा सांस की दर एवं मात्रा में कमी पाई गई श्वास की मात्रा तो प्रति मिनट 6 लीटर के स्थान पर 3 लीटर हो गई परंतु फेफड़ों की उस को कमजोर करने की क्षमता बढ़ गई निष्काषित दूषित वायु में ऑक्सीजन की मात्रा में 10 पर्सेंट एक कमी हो गई
Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: