जैसा कि नाम ही से पता चलता है, वेदिक गणित गणित सीखने की पुरानी विधा है. इसे अथर्व वेद और अन्य वेदों से निकाला गया है. ये माना जाता है कि समस्त ज्ञान 16 सूत्रों में समाया है.
इसे पढ्ने के दो तरीके हैं – सूत्र के माध्यम से, और आसान विधा के माध्यम से. हम इस पुस्तक में आसान विधा से गणित सीखेंगे. उदाहरणत: -
1. 10 या 100 य 1000 आदि से कोई भी अंक घटाना: (सब 9 से और अंतिम 10 से. )
इस के लिये बहुत ही सीधा तरीका है:
1000 -784
4 को छोड कर, हर अंक को 9 से घटाइये: इस तरह:
(9-7) (9-8) आप को मिलता है: 21 अब अंतिम अंक (4) को, 10 से घटाइये. आपको मिलता है: (10-4 = 6)
इस अंक को 21 के बाद लगा दीजिये: 216!
यानि, दाहिने हाथ से अंतिम अंक छोड कर, हर अंक को 9 से घटाएं, और अंतिम अंक को 10 से घटाएं.
अब ये कीजिये:
100000 – 67543
ये हुआ: 
(9-6) (9-7) (9-5) (9-4) (10-3)
32457!!
ग्यारह से गुणा
जब किसी संख्या को 11 से गुणा करना हो तो इस तरह करें
234 * 11 = 2574
पहले 4 लिखें फिर संख्यों को जोड़ कर लिखें, आखिरी को वैसे ही लिखें।
2-(2+3=5)-(3+4=7)-4
है ना आसान!!
क्या है वेदिक गणित | What is Vedic Mathematics ?
क्या है वेदिक गणित | What is Vedic Mathematics ?


10 या 100 य 1000 आदि से कोई भी अंक घटाना

(सब 9 से और अंतिम 10 से. )
इस के लिये बहुत ही सीधा तरीका है:
1000 -784 4 को छोड कर, हर अंक को 9 से घटाइये: इस तरह:
(9-7) (9-8) आप को मिलता है: 21 अब अंतिम अंक (4) को, 10 से घटाइये. आपको मिलता है: (10-4 = 6) इस अंक को 21 के बाद लगा दीजिये: 216!
यानि, दाहिने हाथ से अंतिम अंक छोड कर, हर अंक को 9 से घटाएं, और अंतिम अंक को 10 से घटाएं.
अब ये कीजिये:
100000 – 67543 ये हुआ: (9-6) (9-7) (9-5) (9-4) (10-3) 32457!!
अब ये सवाल हल कीजिये:
1. 100-65
2. 1000-872
3. 10000-6754
4. 100-87
5. 100000 – 6752

जवाब

1. 100-65 (9-6) (10-5) 3 5 35

2. 1000-872
872 
= 128 [ (9-8) (9-7) (10-2) ]
3. 10000-6754
= 3246 
4. 100-87
= 13
5. 100000 – 6752
= 93248 

 9 से गुणा
अगर आप किसी सन्ख्या को ९ से गुना कर ना चाहते 9×1=9=9 9×2=18=9 9×3=27=9 अब ११ से करने पर १८ होंगे 9×11=99=18 9×12=108=18 २१से करने पर२७ 9×21=189=27
Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: