प्र.1.5. निम्नलिखित गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढि़ये एवं पूछे गए प्रश्नों के सही विकल्प चुनकर लिखिए-

पर्यावरण मंत्रालय की मंजूरी के अभाव में 550 से अधिक सड़क परियोजनाएं जिस तरह लटकी हुई हैं उससे यही पता चलता है कि समस्याओं के समाधान का तरीका खोजने के लिए सही ढंग से प्रयास नहीं हो रहे हैं। अब तो यह भी लगता है कि हर केंद्रीय मंत्रालय अपने ढंग से काम करना चाहता है और उनके बीच आपसी समन्वय का अभाव बढ़ता जा रहा है। पर्यावरण मंत्रालय की आपत्तियों के चलते केवल भूतल परिवहन मंत्रालय को ही समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ रहा है, बल्कि ऐसी ही समस्याओं से बिजली, कोयला और कुछ अन्य मंत्रालय भी दो चार हैं। इसके अतिरिक्त अनेक राज्य सरकारों को भी यह शिकायत है कि वन एवं पर्यावरण मंत्रालय उसकी तमाम परियोजनाओं में बाधक बना हुआ है। पर्यावरण मंत्रालय की आपत्तियों को अनुचित नहीं कहा जा सकता, क्योंकि पर्यावरण और पारिस्थितिकी तंत्र की रक्षा करना उसका दायित्व है। अनुचित यह है कि पर्यावरण एवं विकास में संतुलन कायम करने की कोई कोशिश नहीं हो रही है। समस्याएं इसलिए बढ़ती चली जा रही हैं, क्योंकि उन वैकल्पिक उपायों पर गंभीरतापूर्वक विचार नहीं हो रहा है जिनकी सहायता को लेकर पर्यावरण की रक्षा के नाम पर विकास योजनाओं को ठप नहीं किया जा सकता है। इसी तरह विकास के नाम पर पर्यावरण की अनदेखी भी नहीं की जा सकती है। यह समझना कठिन है कि पर्यावरण मंत्रालय की आपत्तियों पर केंद्रीय-मंत्रालय अथवा राज्य सरकारें उसके साथ विचार-विमर्श कर बीच का रास्ता निकालने में कामयाब क्यों नहीं हो पा रही हैं? यह सवाल इसलिए क्योंकि एक लंबित सड़क परियोजना के संदर्भ में यह सामने आ रहा है कि उसे तीन दशक से अधिक समय बीतने के बावजूद मंजूरी नहीं मिल सकी है। यह तो विलंब की पराकाष्ठा है। बेहतर हो कि केंद्रीय सत्ता और राज्य सरकारें लंबित योजनाओं-परियोजनाओं को आगे बढ़ाने के मामले में सक्रियता का परिचय दें और ऐसे उपाय करें जिनसे उन्हें पर्यावरण मंजूरी के साथ जल्द से जल्द पूरा किया जा सके।
Hindi Language For IBPS RRBs 2015 | Hindi Paragraph
Hindi Language For IBPS RRBs 2015 | Hindi Paragraph


प्र.1. केन्द्र सरकार और राज्य सरकारों को लंबित पड़ी परियोजनाओं के लिए क्या करना चाहिए?

(1) उन्हें आर्थिक सहायता देनी चाहिए।

(2) पर्यावरण मंजूरी के साथ उन्हें शीघ्र पूरा किया जाना चाहिए।

(3) उन्हें बंद करवा देना चाहिए।

(4) उन्हें निजी हाथों में सौंप देना चाहिए।

(5) उन्हें विदेशी हाथों में सौंप देना चाहिए।

प्र.2. सड़क परियोजनाओं के विषय में सरकार क्या कर रही है?

(1) समस्याओं के समाधान का तरीका खोजने के लिए सही ढंग से प्रयास हो रहे हैं।

(2) समस्याओं के समाधान के लिए आर्थिक सहायता दे रही है।

(3) समस्याओं के समाधान के लिए राज्य सरकारें केन्द्र सरकार से अनुदान मांग कर रही है।

(4) समस्याओं के समाधान के लिए सही ढंग से प्रयास नहीं हो रहे है।

(5) इनमें से कोई नहीं

प्र.3. केन्द्रीय मंत्रालायों की क्या स्थिति है?

(1) उनमें आपसी सामंजस्य की कमी है।

(2) वे अपने ढंग से काम नहीं करना चाहते है।

(3) केन्द्रीय मंत्रालयों में भ्रष्टाचार व्याप्त है।

(4) वे अपने ढंग से काम करना चाहती है।

(5) वे एक दूसरे की निन्दा करते है।

 पर्यावरण मंत्रालय के कारण किसको समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है ?

(1)प्र.4. भूतल मंत्रालय के साथ-साथ बिजली कोयला और कुछ अन्य मंत्रालय भी दो चार है।

(2) केवल भूतल परिवहन मंत्रालय को

(3) कोई भी मंत्रालय इससे अछूता नहीं है।

(4) अन्य मंत्रालय इससे मुक्त हैं।

(5) इनमें से कोई नहीं

प्र.5. क्यों पर्यावरण मंत्रालय की आपत्तियों को अनुचित नहीं कहा जाता है?

(1) वृक्ष और पौधे मनुष्य को आक्सीजन प्रदान करते है।

(2) पर्यावरण की रक्षा करना इसका मुख्य उद्देश्य है।

(3) पर्यावरण और परिस्थितिक तंत्र की रक्षा करना उसका दायित्व है।

(4) वह सुचारू रूप से कार्य करता है।

(5) पर्यावरण मंत्रालय सब मंत्रालयों में उच्च है।

प्र.6. पर्यावरण की रक्षा के लिए विकास योजनाओं का क्या करना चाहिए?

(1) विकास योजनाओं को बंद न करके पर्यावरण के साथ सामंजस्य बैठाना चाहिए।

(2) विकास योजनाओं को कुछ समय के लिए बंद कर देना चाहिए।

(3) विकास योजनाओं को बंद नहीं करना चाहिए।

(4) विकास योजनाओं को बंद कर देना चाहिए।

(5) इनमें से कोई नहीं

प्र.7.
 एक लंबित सड़क के विकास में क्या सत्य है ?

(1) सरकार लंबित सड़क को पूरा करने का पूर्ण प्रयास कर रही है।

(2) उसे तीन दशक से अधिक समय बीतने के बावजूद मंजूरी नहीं मिल सकी।

(3) केंद्र सरकार ने लंबित सड़क के निर्माण को राज्य सरकारों को सौंप दिया है।

(4) सरकार ने लंबित सड़क के लिए एक योजना बनवाई है।

(5) सरकार इस विषय में कुछ भी नहीं कर रही है।

प्र.8. 550 से अधिक सड़क परियोजनाओ क्यों पूर्ण नहीं हो पायी हैं?

(1) केन्द्र सरकार की मंजूरी के अभाव में

(2) राज्य सरकारों की मंजूरी के अभाव में

(3) आर्थिक कमी के कारण

(4) पर्यावरण मंत्रालय की मंजूरी के अभाव में

(5) जनता के विरोध के कारण

प्र.9. किसकी सहायता लेकर पर्यावरण को होने वाले नुकसान को सीमित किया जा सकता है?

(1) वैकल्पिक उपायों पर गंभीरतापूर्वक विचार करके

(2) कार्बन डाई आक्साइड उत्सर्जन वाले उद्योगों को बन्द करके

(3) उद्योगों को बंद करवा करके

(4) वृक्षों की कटाई पर रोक लगा करके

(5) सी.एफ.सी का प्रयोग करके

प्र.10. लेखक ने संपूर्ण गद्यांश में किस बात पर जोर दिया है?

(1) केन्द्र सरकार को पर्यावरण बचाव के लिए राज्य सरकारों को अनुदान प्रदान करना।

(2) पर्यावरण मंत्रालय को समाप्त करके इसे निजी हाथों में प्रदान करना।

(3) पर्यावरण और विकास में संतुलन पैदा किया जाना है।

(4) पर्यावरण मंत्रालय को अनुदान प्रदान करना।

(5) इनमें से कोई नहीं

प्र.11. ‘बाधक’ का विलोम क्या है ?

(1) समर्थन (2) असहयोगी (3) प्रतियोगी (4) सहयोगी (5) निरर्थक

प्र.12
. ‘वैकल्पिक’ का विलोम क्या है ?

(1) अस्थाई (2) गोचर (3) काल्पनिक (4) स्थाई (5) अनिवार्य

प्र.13.
 ‘सहायता’ का विलोम क्या है ?

(1) सहायक (2) असहायता (3) प्रतियोगिता (4) सहयोगी (5) इनमें से कोई नहीं

प्र.14. ‘स्थिर’ का कौन सा पर्यायवाची नहीं है ?

(1) अटल (2) अचल (3) अडिग (4) दृढ़ (5) अदृढ़

प्र.15. ‘अतीत’ का कौन सा पर्यायवाची नहीं है ?

(1) भूतकाल (2) गत (3) विगत (4) प्रतीत (5) पूर्वकाल
उत्तर

प्र.1.(2) प्र.2.(5) प्र.3.(2) प्र.4.(3) प्र.5.(1) प्र.6.(5) प्र.7.(1) प्र.8.(2) प्र.9.(3) प्र.10.(4) प्र.11.(1) प्र.12.(2) प्र.13.(5) प्र.14.(3) प्र.15.(4)
Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: