प्र.1.10. निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर नीचे दिये गये प्रश्नों के उत्तर दीजिए।


वैश्विक मंदी के दौर में वर्ष 2008-09 में 6.7 फीसदी की मंद परंतु सम्मानजनक आर्थिक वृद्धि के साथ अर्थव्यवस्था ने अगले दो वर्षों में 9 फीसदी की दर से वृद्धि की। ऐसी वृद्धि से गौरव की कोई अनुभूति नहीं होती जब उसका समान लाभ पूरी जनता में वितरित न होखासतौर से भुखमरी मिटाने के मामले में। पिछले दो वर्षों में हमारी वृद्धि काफी कमजोर रही है और इस वर्ष हालत और खराब हो सकती है। खाद्य सुरक्षा विधेयक का मुख्य ध्यान सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत लक्षित परिवारों की संख्या में बढ़ोतरी करना है। एकीकृत बाल विकास योजना (आईसीडीएस) जो गर्भवती महिलाओं और स्कूल न जाने वाले छोटे बच्चों से प्रत्यक्ष रूप से जुड़ी हुई है और स्कूलों के माध्यम से चलाई जाने वाली मध्यान्ह् भोजन योजना अपने मौजूदा स्वरूप में ही खाद्य सुरक्षा विधेयक के दायरे में आती हैं लेकिन विधेयक का विस्तारित दायरा पीडीएस पर केंद्रित है। भारत में आज महिलाओं और बच्चों में कुपोषण की तस्वीर बेहद भयावह है। इन सबसे कमजोर और योग्य जनसांख्यिकीय समूहों तक पहुंचने का हाउसहोल्ड (परिवार) लक्ष्य आमतौर पर जोखिम भरा है। खाद्य वितरण में पारिवारिक दायरे के भीतर विषमता संस्कृति से जुड़ी है और इसमें महज इस वजह से बदलाव नहीं आ सकता कि राशन कार्ड परिवार की सबसे वरिष्ठ महिला सदस्य के नाम पर जारी होगा। चूंकि आईसीडीएस का बुनियादी ढांचा पहले से ही कायम हैजो सभी गांवों के 90 फीसदी तक विस्तारित हैऐसे में अगर राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के 2005 के आंकड़ों पर यकीन करें तो इस योजना को रोजाना एक खुराक के बजाय दो खुराकों के हिसाब से स्पष्ट रूप से वरीयता देकर उसकी पैठ बढ़ानी चाहिए थी। इसके साथ बेहद गरीब लोगों के लिए चलाई जाने वाली अंत्योदय योजना को छोड़कर पीडीएस से चरणबद्ध तरीके से निजात पाई जा सकती है। खाद्य सुरक्षा विधेयक में गर्भवती महिलाओं के लिए अतिरिक्त नकदी अंश का प्रावधान भी है। अगर यह पारिवारिक आवंटन के जरिये प्रभावी होगा तो एक जगह से दूसरी जगह जाने के दौरान महिलाएं निजी तौर पर उसका लाभ नहीं उठा पाएंगी। इसमें उनकी ससुराल और मायके का मसला भी आएगा। आईसीडीएस के जरिये वे ऐसा कर सकती हैं। हालांकि आईसीडीएस भी बड़ी गड़बडि़यों से जूझ रही है।
Hindi Language For IBPS RRBs-CWE-IV 2015 Exam Preparation
Hindi Language For IBPS RRBs-CWE-IV 2015 Exam Preparation
खाद्य सुरक्षा विधेयक निश्चित रूप से खस्ताहाल पीडीएस व्यवस्था के तहत सब्सिडी वाले अनाज का दायरा बढ़ाएगा लेकिन इस योजना के लाभार्थियों के सामने गैर-अनाज प्रोटीन वस्तुओं को खरीदने के लगातार बढ़ते संकट को दूर नहीं कर पाएगा। कोई भी भारतीय मां इसका प्रमाण दे सकती है कि एक बालक को बहुत ज्यादा अनाज की दरकार नहीं होतीजितनी जरूरत दूध या अन्य प्रोटीन पदार्थ की होती है। अगर जल्द ही आपूर्ति के मोर्चे पर कुछ प्रबंध नहीं किए तो युवा वर्ग के ज्यादा उपभोग से दूध के दाम और चढ़ते जाएंगे। फिलहाल प्रतिदिन एक डॉलर क्रय शक्ति समानता के लिहाज से आधा लीटर दूध आता है। डेयरी उत्पादकता बढ़ाने के बुनियादी कदम तात्कालिक लाभ मिलने के लिहाज से बहुत सुस्त होंगे लेकिन कुछ संभावित तात्कालिक कदम उठाए जा सकते हैं। मसलन चारे के तौर पर इस्तेमाल होने वाले फसल अवशेष के संरक्षण में काम आने वाले कृषि उपकरणों पर सब्सिडी दी जा सकती है। कटाई में मशीनों के बढ़ते इस्तेमाल से खेतों में काफी फसल अवशेष के रूप में रह जाती है। पंजाब और हरियाणा जैसे अनाज के कटोरे कहे जाने वाले राज्यों में इस अवशेष को असल में जलाया जाता है। चारे के भाव आसमान छू रहे हैं क्योंकि इसका पश्चिम एशिया से आयात किया जा रहा है और दूध के दाम बढ़ाने में इसका अहम योगदान है। हालांकि केवल चारे की कीमत में बढ़ोतरी फसल अवशेष को संरक्षित करने का पूरा बाजार लाभ दिलाने में सक्षम नहीं है लेकिन तब दूध भारत की अधिकांश आबादी की पहुंच से बाहर हो जाएगा। खाद्य उत्पादन में आपूर्ति संबंधी बाधाओं को हटाने के लिए बड़े स्तर पर हस्तक्षेप करना होगा और इसके लिए कृषि विश्वविद्यालयों के राष्ट्रीय नेटवर्क से सलाह भी लेनी होगी। देश में हमारे पास पूरे संस्थान हैंजिनमें कृषि और खाद्य तकनीकों के स्थानीय जानकार हैंजिसमें फसल कटाई के बाद संरक्षण पर सलाह देने वाले विशेषज्ञ भी हैंजो हमें आपूर्ति के मोर्चे पर सुझाव देने में सक्षम हैं। तीसरी अनुसूची के साथ धारा 39 का संयोजन खाद्य सुरक्षा विधेयक का सबसे बेहतरीन पहलू हैजिसमें खाद्य उत्पादन में आपूर्ति श्रृंखला की बाधाओं का उल्लेख किया गया है लेकिन इसमें अनाज का बेहद सीमित जिक्र है।


प्र.1.‘ऐसी वृद्धि से गौरव की कोई अनुभूति नहीं होती जब उसका ------------------’ में ‘ऐसी वृद्धि’ से क्या तात्पर्य है?

(1) 2008-09 में 6.7 फीसदी की मंद वृद्धि    

(2) 2008-09 में 6.7 फीसदी की तेज वृद्धि

(3) 20010-11 में 9 फीसदी की मंद वृद्धि    

(4) 20012-13 में 9 फीसदी की तेज वृद्धि
             
(5) 2009-11 में 9 फीसदी की तेज वृद्धि


प्र.2. खाद्य सुरक्षा विधेयक का मुख्य ध्यान केंद्रित है?

(1) एकीकृत बाल विकास योजना को विस्तारित करना

(2) पीडीएस लक्षित गर्भवती महिलाओं की संख्या में वृद्धि करना

(3) मध्यान्ह् भोजन योजना को विस्तारित करना

(4) पीडीएस लक्षित परिवारों की संख्या में वृद्धि करना

(5) स्कूल न जाने वाले छोटे बच्चों को पीडीएस से जोड़ना


प्र.3.   निम्नलिखित कथनों पर ध्यान दीजियेः

(A) खाद्य वितरण में पारिवारिक दायरे के भीतर विषमताराशन कार्ड परिवार की सबसे वरिष्ठ महिला सदस्य के नाम पर जारी करके दूर की जा सकती है।

(B) आईसीडीएस का बुनियादी ढांचा सभी गांवों के 90 फीसदी तक विस्तारित है।
           
(C) आईसीडीएस की पैठ बढ़ाकर पीडीएस से चरणबद्ध तरीके से निजात पाई जा सकती है।
            
उपरोक्त कथनों में से कौन सा/से कथन असत्य है/हैं?
(1) केवल A   (2) केवल B   (3) केवल C   (4) सभी A, B और C (5) इनमें से कोई नहीं


प्र.4. निम्नलिखित पर ध्यान दीजियेः

(A) सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस)    

(B) एकीकृत बाल विकास योजना (आईसीडीएस)
             
(C) मध्यान्ह् भोजन योजना


उपरोक्त में से कौन सी योजनायें अपने वर्तमान स्वरूप में खाद्य सुरक्षा विधेयक के दायरे में आती हैं?

(1) केवल A   (2) केवल B और C   (3) केवल B   (4) केवल A और C (5) केवल C


प्र.5.गद्यांश में ऐसा क्यों कहा गया है कि, ‘‘सबसे कमजोर और योग्य जनसांख्यिकीय समूहों तक पहुंचने का हाउसहोल्ड (परिवार) लक्ष्य आमतौर पर जोखिम भरा है।’’?

(1) क्योंकिखाद्य वितरण में पारिवारिक दायरे के भीतर विषमता संस्कृति से जुड़ी है।

(2) क्योंकिराशन कार्ड परिवार की सबसे वरिष्ठ महिला सदस्य के नाम पर जारी किया जाता है।
             
(3) क्योंकिइस योजना में रोजाना केवल एक खुराक के आधार पर राशन उपलब्ध कराया जाता है।
             
(4) क्योंकिपीडीएस वितरण प्रणाली की पैठ आईसीडीएस योजना की तुलना में कम है।
             
(5) क्योंकिकेवल आईसीडीएस योजना ही खाद्य सुरक्षा विधेयक के दायरे में आती है।


प्र.6.   खाद्य सुरक्षा विधेयकनिम्न में से किस संकट को दूर नहीं कर पायेगा?

(1) सब्सिडी वाले अनाज की उपलब्धता
             
(2) गर्भवती महिलाओं के लिए आवश्यक नकदी
             
(3) खाद्य सुरक्षा विधेयक का पारिवारिक आंवंटन के जरिये क्रियान्वयन
            
 (4) गैर-अनाज प्रोटीन वस्तुओं की खरीद
            
 (5) इनमें से कोई नहीं


प्र.7. डेयरी उत्पादकता बढ़ाने के लिये निम्न में कौन सा संभावित तात्कालिक कदम उठाया जा सकता है?
             
 (1) चारे का आयात करना
            
 (2) कृषि उपकरणों पर सब्सिडी देना
            
 (3) फसल अवशेष को संरक्षित करना
            
 (4) कृषि विश्वविद्यालयों के राष्ट्रीय नेटवर्क से सलाह लेना
          
 (5) खाद्य उत्पादन में आपूर्ति बाधाओं को दूर करना


प्र.8.   खाद्य सुरक्षा विधेयक के संबंध में निम्न में से कौन सा कथन गलत है?

(1) पीडीएस व्यवस्था के तहत सब्सिडी वाले अनाज का दायरा बढ़ेगा।

(2) गर्भवती महिलाओं के लिए अतिरिक्त नकदी अंश प्रावधान।

(3) डेयरी उत्पादकता में वृद्धि करना।

(4) खाद्य उत्पादन में आपूर्ति संबंधी बाधाओं को हटाना।

 (5) पीडीएस से चरणबद्ध तरीके से निजात पाना।


प्र.9. गद्यांश में किस प्रकार के कृषि उपकरणों पर सब्सिडी देने की बात की गयी है?

(1) फसल अवशेष के संरक्षण में काम आने वाले कृषि उपकरणों
            
 (2) फसल कटाई में काम आने वाले कृषि उपकरणों
            
 (3) फसल अवशेषों को जलाने में काम आने वाले कृषि उपकरणों
          
  (4) खाद्यान्न आपूर्ति में काम आने वाले कृषि उपकरणों
        
  (5) इनमें से कोई नहीं


प्र.10. तीसरी अनुसूची के साथ धारा 39 का संयोजन खाद्य सुरक्षा विधेयक का सबसे बेहतरीन पहलू हैक्योंकि-
             
(1) इसमें अनाज का सीमित जिक्र किया गया है।
           
(2) इसमें खाद्य उत्पादन में आपूर्ति श्रृंखला की बाधाओं का उल्लेख किया गया है।
             
(3) इसमें खाद्य आपूर्ति के मोर्चे पर सुझाव दिये गये हैं।
            
(4) इसमें फसल कटाई के बाद संरक्षण पर सलाह दी गयी है।
             
(5) इसमें भारत की अधिकांश आबादी तक दूध की पहुंच सुनिश्चित करने का उल्लेख किया गया है।


उत्तर 


प्र.1.(5) प्र.2.(4) प्र.3.(1) प्र.4.(2) प्र.5.(1) प्र.6.(4) प्र.7.(3) प्र.8.(5) प्र.9.(1) प्र.10.(2)
Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: