हजारों वर्षों के दौरानजब से विचारों के इतिहास के आरंभिक अभिलेख मिलते हैंविद्वत जनों ने सृष्टि में उनके द्वारा अनुभूत व्यवस्था का विवरण प्रस्तुत किया है। ये विवरण एक सातत्यक की शृंखला के एक छोर से दूसरे छोर तक मानव-समानदेव-देवियों द्वारा उनके विवेकाधीन शासन से लेकर देव-देवियों द्वारा नियमाधीन शासन से लेकर विभिन्न प्रकार के कार्य-कारण संबंधों से लेकर गूढ़ (अमूर्त) सुनिश्चित नियमों तक फैले हैं। ये उत्तरोत्तर वर्धमान परिष्करण की अवस्थाओं का प्रतिनिधित्व नहीं करतेक्योंकि ये सभी प्राचीन यूनानी दार्शनिकों और साथ ही साथ विश्व के समसामयिक विचारकों के चिंतने में मिलते हैं। एक या अनेक देव-देवियों द्वारा शासन एक अति प्राचीन अवधारणा है। सुमेरिया में धर्मप्रमुखों ने अति प्राकृतिक शक्तियों एवं अमरता से संपन्न मानव-समान व्यक्तियों द्वारा शासित राज्य की कल्पना की थी। इनमें से प्रत्येक व्यक्ति पर विश्व की कुछ विशिष्टताओं के नियंत्रण तथा अनुरक्षण का दायित्व था जैसे-नदियों का प्रवाहज्वार-भाटा का उतार-चढ़ावहवाओं का परिवर्तनफसल की उत्पादकता तथा शिकार योग्य पशुओं की बहुलता। इन देव-देवियों में एक-दूसरे से प्रतिस्पर्धा होती थी तथा मानव-कृत्यों के प्रति इनकी प्रतिक्रिया स्वेच्छाचारितापूर्ण तथा बहुधा दंडात्मक होती थी। अन्य संस्कृतियों में इन बातों की व्याख्या एक एकल देव-देवी के रूप में की गयी जो लोगों को बारंबार भौतिक अनुकंपा प्रदान करते थे। एक व्यवस्थित जगत का विवरण एक धारणा प्रदान करके प्रस्तुत किया जाता है। कुछ मामलों में एक एकल देव-देवी की धारणा को बनाये रखा गया। परंतु देव-देवी के कृत्य स्वेच्छाचारितापूर्ण नहीं होते हैं। कुछ लोग कहेंगे कि यही देव/देवी नियम या कानून है। कानून का विचार स्वयं ही एक मानवत्वारोपण है अर्थात मानव-अनुभव का प्रतिबिंब है। वे लोग जो दैवी-नियमों को तोड़ते हैं वे दंड के अधिकारी होते हैंपरंतु जो नियमानुकूल आचरण करते हैं वे पुरस्कृत किये जाते हैं। सत्य हीमानव निर्मित नियमों तथा वैज्ञानिक नियमों के बीच बहुत बड़ा अंतर है-मानव निर्मित नियम सत्ताओं के व्यवहार को शासित करते हैं तथा घटनाएं नियमों के अधीन हैंपरंतु वैज्ञानिक नियम घटनाओं का सामान्य विवरण है।
Hindi Language For IBPS RRBs-CWE-IV 2015 Exam Preparation
Hindi Language For IBPS RRBs-CWE-IV 2015 Exam Preparation
प्र.1.     जगत् में व्यवस्था का बोध इनमें से किसके बीच संबंध के द्वारा किया जा सकता है?
                (1) मानव तथा पदार्थ                   (2) नियम तथा दंड
                (3) कार्य तथा कारण                    (4) परिष्करण तथा अपरिष्करण
                (5) घटनाएँ एवं व्यवहार
उत्तरः    (2)

प्र.2.     सुमेरिया में धर्मप्रमुखों ने निम्न में से किन गुणों से सम्पन्न मानवों द्वारा शासित विश्व की कल्पना की थी ?
                (1) विवेकपूर्ण चिंतन से                  
                (2) धार्मिक शक्तियों से
                (3) अति प्राकृतिक शक्तियों से 
                (4) अंतज्र्ञानी शक्तियों से
                (5) कानूनी शक्तियों से

उत्तरः    (3)

प्र.3.     मानव अनुभव के प्रतिबिंब के रूप में नियम क्या हैं ?
                (1) घटनाओं का वैज्ञानिक विवरण
                (2) जो मानव व्यवहार को शासित करता है।
                (3) घटनाओं का एक सामान्य विवरण।
                (4) प्राकृतिक घटनाओं को नियंत्रित करने वाला।
                (5) इसे तोड़ने अथवा इसका अनुपालन करने के लिए दंड अथवा पुरस्कार
उत्तरः    (5)

प्र.4.     लेखक के अनुसार विश्व के बारे में विभिन्न विवरण क्रमविकासपरक नहीं हैक्योंकि
                (1) इन्हें प्राचीन यूनानी दार्शनिकों के चिंतन में पाया जाता है।
                (2) विचार विकसित नहीं होते
                (3) मानव निर्मित नियम सत्ता को शासित करते हैं।       
                (4) ये न तो प्राचीन हैंन ही समसामयिक हैं।
                (5) गूढ़ सुनिश्चित नियमों के साथ इनका संबंध नहीं है।

उत्तरः    (5)

प्र.5.     देव-देवियों के बारे में सुमेरियन विचार है कि-
                (1) ये एक नियम से नियंत्रित होते हैं।      
                (2) वे एक एकल देव-देवी से नियंत्रित होते हैं।
                (3) ये मानव के प्रति दयालु होते हैं।                      
                (4) ये एक-दूसरे से प्रतिस्पर्धा में रहते हैं।
                (5) इनकी प्रतिक्रिया दंडरहित होती है।      
उत्तरः    (4)

प्र.6.     विश्व को समझने का एक अन्य तरीका क्या हैजो सुमेरियन विचार से अलग है ?
                (1) दंडात्मक प्रतिक्रियाओं द्वारा नियंत्रित विश्व।          
                (2) एक एकल देव-देवी द्वारा नियंत्रित विश्व।
                (3) विश्व एक देव/देवीजो स्वेच्छाचारी नहींद्वारा नियंत्रित होता है।
                (4) विश्व नियम/कानून द्वारा नियंत्रित होता है।
                (5) कार्य-कारण अनुक्रमों द्वारा नियंत्रित विश्व।           

उत्तरः (5)

पर्यायवाची

प्र.7.     सातत्यक

 (1) अविच्छिन्नता   (2) भंगुरता  (3) गतिशीलता (4) अस्थिरता  (5) अनियमितता

उत्तरः      (1) अविच्छिन्नता

प्र.8.     वर्धमान

(1) अर्धचंद्र            (2) महावीर   (3) वृद्धिशील  (4) शूरवीर     (5) बुद्धिमान

उत्तरः      (3) वृद्धिशील

विलोम

प्र.9.     अनुकंपा

(1) दृष्टि      (2) प्रसाद     (3) उपहार     (4) आशीर्वाद   (5) आजीविका

उत्तरः      (4) आशीर्वाद

प्र.10.     प्रतिबिंब

(1) दर्पण      (2) आईना    (3) छवि      (4) चित्र     (5) साक्ष्य

 उत्तरः     (5) साक्ष्य
Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: