प्र.1-10. नीचे दिए गए परिच्छेद में कुछ रिक्त स्थान दिए गए हैं तथा उन्हें प्रश्न संख्या से दर्शाया गया है। ये संख्याएं परिच्छेद के नीचे मुद्रित हैं, और प्रत्येक के सामने (1), (2), (3),(4) और (5) विकल्प दिए गए हैं। इन पांचों में से कोई एक इस रिक्त स्थान को पूरे परिच्छेद के संदर्भ में उपयुक्त ढंग से पूरा कर देता हैं आपको वह विकल्प ज्ञात करना है, और उसका क्रमांक ही उत्तर के रूप में दर्शाना है। आपको दिए गए विकल्पों में से सबसे उपयुक्त का चयन करना है।

सेवा के लिए प्रतिबद्धता ही संसार में (1) ध्येय है। तुम्हारे जीवन में भय या उलझन प्रतिबद्धता के अभाव के कारण है। यदि जीवन में अस्त-व्यस्तता है तो संकल्प के अभाव के कारण। केवल यह विचार कि मै संसार में सेवा के लिए ही हूं, मैं को (2) करता है और जब मै मिट जाता है, परेशानियां खत्म हो जाती है। सेवा वह नहीं, जिसे तुम सुविधा या सुख के लिए करते हो। जीवन का परम उद्देश्य है (3) होना। संकल्परहित मन दुःखी रहता है। संकल्प से जुड़ा मन कठिनाइयां अनुभव कर सकता है परंतु अपने (4) का फल पाता है। जब तुम सेवा को जीवन का एकमात्र उद्देश्य बना लेते हो, तो यह भय को दूर करता है, मन को केन्द्रित करता है और तुम्हें लक्ष्य देता है। यदि तुम केवल देने और सेवा के लिए आए हो, तो पाने के लिए कुछ है ही नहीं। सफलता श्रेष्ठता की कमी को इंगित करती है। सफलता यह दर्शाती है कि असफल होने की सम्भावनाएं भी है। जो सर्वश्रेष्ठ है वहां, असफलता के हारने का प्रश्न ही नहीं। जब तुम अपनी अनन्तता को समझते हो, तब कोई भी कार्य प्राप्ति या (5) नहीं। यदि तुम स्वयं को बहुत सफल समझते हो, इसका अर्थ है, तुम अपना मूल्यांकन कम कर रहे हो। तुम्हारी सभी प्राप्तियां तुमसे छोटी है। अपनी प्राप्तियों पर अभिमान करना (6) को छोटा करना है। दूसरों की सेवा करते समय महसूस हो सकता है कि तुमने पर्याप्त नहीं किया, पर यह कभी नहीं महसूस होगा कि तुम असफल रहे। वही सच्ची सेवा है जब तुम महसूस करो कि तुमने पर्याप्त नहीं किया। कार्य करना तुमको इतना नहीं थकाता जितना कर्ता-भाव। तुम्हारी सभी (7) दूसरों के लिए हैं। यदि तुम (8) गाते हो, वह दूसरों के लिए है, यदि तुम स्वादिष्ट भोजन बनाते हो, तो दूसरों के लिए, अच्छी पुस्तक लिखते हो तो वह भी दूसरों के पढ़ने के लिए। यदि तुम अच्छे बढ़ई हो, तो यह इसलिए कि दूसरों के इस्तेमाल के लिए अच्छी चीजें बना सको। यदि तुम एक निपुण (9) हो, तो दूसरों को स्वस्थ्य करने के लिए। यदि तुम शिक्षक हो-वह भी दूसरों के लिए। तुम्हारे सभी कार्य, सभी (10), दूसरों के लिए है।

प्र.1. (1) गौड़ (2) यथार्थ (3) एकमात्र (4) सहज (5) प्रमुख

प्र.2. (1) विलीन (2) तल्लीन (3) मग्न (4) लुप्त (5) प्रकट

प्र.3. (1) कार्यरत (2) सेवारत (3) सेवामुक्त (4) कार्यमुक्त (5) पदासीन

प्र.4. (1) योग (2) साधना (3) इच्छानुसार (4) श्रम (5) भाग्य

प्र.5. (1) उपलब्धि (2) मुक्ति (3) मोक्ष (4) स्वर्ग (5) अध्यात्म

प्र.6. (1) दूसरों (2) दुश्मनों (3) साथियों (4) स्वयं (5) परिजनों

प्र.7. (1) इच्छाएं (2) बुराइयां (3) आदतें (4) प्रसिद्धि (5) प्रतिभाएं

प्र.8. (1) गाना (2) भजन (3) सुरीला (4) सुन्दर (5) सोहर

प्र.9. (1) स्वस्थ (2) सर्जन (3) अमीर (4) साहसी (5) दयावान

प्र.10. (1) कौशल (2) क्षमताएं (3) धन (4) निपुणतायें (5) सम्पन्नता

उत्तर 
प्र.1.(2) प्र.2.(4) प्र.3.(4) प्र.4.(1) प्र.5.(3) प्र.6.(1) प्र.7.(2) प्र.8.(4) प्र.9.(5) प्र.10.(3) 
 
Hindi Language For IBPS RRBs 2015 | Cloze Test
Hindi Language For IBPS RRBs 2015 | Cloze Test
 
प्र.1.5. नीचे दिया गया प्रत्येक वाक्य चार भागों में बांटा गया है। जिन्हें (1), (2), (3) और (4) क्रमांक दिए गए हैं। आपको यह देखना है कि वाक्य के किसी भाग में व्याकरण, भाषा, वर्तनी, शब्दों को गलत प्रयोग या इसी तरह की कोई त्रुटि अगर होगी तो वाक्य के किसी एक भाग में ही होगी। उस भाग का क्रमांक ही उत्तर है। अगर वाक्य सही है तो उत्तर (5) अर्थात् ‘कोई अशुद्धि नहीं है‘ दीजिए।

प्र.1. दिल्ली सरकार ने प्याज को (1)/जनता तक कम कीमत पर (2)/पहुंचाने के लिए 1000 स्टॉल खोलने के (3)/ साथ ही 150 मोबाइल वैन का इंतजाम किया है।(4)/कोई अशुद्धि नहीं है।(5)

प्र.2. बिहार के गौरवशाली इतिहास (1)/और आधुनिक पटना की (2)/पहचान बने ‘गोलघर’ की रचना (3)/1786 में कराया गया था।(4)/कोई अशुद्धि नहीं है।(5)

प्र.3. बैंक अकाउंट की जानकारी देते समय (1)/सावधानी बरतनी चाहिये क्योंकि (2)/ईपीएफओ की रकम इसी खाते (3)/में चढ़ाया जाता है।(4)/कोई अशुद्धि नहीं है।(5)

प्र.4. तेजी से चढ़ते एक्वेरियम उद्योग की (1)/मांग के आगे झुकते हुए भारत ने (2)/पिछले 7 साल में 15 लाख से अधिक (3)/लुप्तप्राय मछलियों का निर्यात किया।(4)/कोई अशुद्धि नहीं है।(5)

प्र.5. आयोग से संपर्क साधने से पहले (1)/करदाता चाहे ही व्यक्ति हो (2)/या कंपनी, उसे आय कर विभाग (3)/का मय ब्याज पूरा विवादित कर चुकाना होगा।(4)/कोई अशुद्धि नहीं है।(5)

प्र.6.10. नीचे (A), (B), (C), (D),(E),(F)और (G) को इस तरह व्यवस्थित कीजिए कि सातों कथनों का एक अर्थपूर्ण परिच्छेद बन जाये।

(A) देश-विदेश की धरती पर शेर की तरह हुंकार भरने वाले स्वामी विवेकानंद के संदेश आज चुनौतियों से घिरे हुये हैं।

(B) भारत के 66 वें स्वतंत्रता दिवस पर थोड़ा पीछे मुड़ कर राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में सोचते हैं तो सामने एक ही नाम आता है, युवाओं के प्रेरणास्रेत स्वामी विवेकानंद का।

(C) ऐसा रोल मॉडल जो हमारे देश को मौजूदा अव्यवस्था से उबारकर देश को गौरवशाली बनाए।

(D) आज हम स्वामी विवेकानंद का स्वर तो नहीं सुन सकते लेकिन उनका कहा और लिखा पढ़ तो सकते हैं।

(E) देश राजनीतिक, आर्थिक और सैन्य चुनौतियों से जूझ रहा है।

(F) 67 फीसद युवा जनसंख्या वाला देश आज एक बार फिर किसी रोल मॉडल की तलाश कर रहा है।

(G) उनका संपूर्ण जीवन और संदेश किसी भी युवा को सर्वाग श्रेष्ठता की दिशा में ले जाने में सक्षम है, क्योंकि उनका जीवन श्रद्धा, साहस, बलिदान, सेवा और स्वस्थ शरीर जैसे बुनियादी सिद्धांतों पर आधारित है।

प्र.6. गद्यांश की पुनर्व्यवस्था के बाद पहला वाक्य कौन सा होगा?

(1) A (2) E (3) C (4) D (5) F

प्र.7. गद्यांश की पुनर्व्यवस्था के बाद तीसरा वाक्य कौन सा होगा?

(1) C (2) B (3) D (4) E (5) F

प्र.8. गद्यांश की पुनर्व्यवस्था के बाद चौथा वाक्य कौन सा होगा?

(1) A (2) C (3) B (4) E (5) F

प्र.9. गद्यांश की पुनर्व्यवस्था के बाद छठां वाक्य कौन सा होगा?

(1) D (2) B (3) C (4) E (5) A

प्र.10. गद्यांश की पुनर्व्यवस्था के बाद सातवां वाक्य कौन सा होगा?

(1) A (2) C (3) C (4) E (5) D

उत्तर
प्र.1.(5) प्र.2.(3) प्र.3.(4) प्र.4.(1) प्र.5.(2) प्र.6.(2) प्र.7.(1) प्र.8.(3) प्र.9.(5) प्र.10.(5)
 
Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: