स्टेट बैंक समेत कई पब्लिक सेक्टर बैंकों में अगले दो साल में 80 हजार जगहें खाली होने जा रही हैं। दरअसल इतने ही कर्मचारी अगले दो साल के भीतर रिटायर होने जा रहे हैं।

मौजूदा वित्तीय वर्ष और अगले वित्तीय वर्ष तक 78,800 कर्मचारी रिटायर हो जाएंगे। मौजूदा वित्तीय वर्ष के भीतर 39,756 कर्मचारी रिटायर हो रहे हैं, जिनमें 19,065 अफसर, 14,669 क्लर्क शामिल हैं।

इसके अतिरिक्त 6,022 सब स्टाफ भी इस फिसकल वर्ष सेवाओं से मुक्त हो जाएंगे। 39 हजार कर्मचारी अगले वित्तीय वर्ष तक रिटायर हो जाएंगे। इनमें से 18, 506 अफसर और 14, 458 क्लर्क कई पब्लिक सेक्टर के बैंक से रिटायर हो रहे हैं।
80,000 Bank vacancies are expected in Next 2 Years
80,000 Bank vacancies are expected in Next 2 Years
एसबीआई, आईडीबीआई और भारतीय महिला बैंक समेत देश में 22 राज्य के स्वामित्व वाले बैंक हैं। एसबीआई के 5 सहयोगी बैंक हैं। खबर है कि इतनी बड़ी संख्या में खाली हो रही जगहों के लिए सरकार नियुक्तियों में कुछ नरमी बरतेगी।

इतने बड़े पैमाने पर रिक्तियों को भरने के लिए सरकार नियुक्ति प्रक्रिया में विशेष सहूलियत देने पर विचार कर रही है. हालांकि इसमें कुछ अड़चनों का जिक्र भी सरकार की ओर किया जा रहा है।

पिछले दिनों वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि बैंक कैंपस सेलेक्शन के लिए तत्पर हैं, लेकिन कुछ कानूनी अड़चनें इस राह में आ रही हैं।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हूए जेटली ने कहा कि इस फैसले के बाद जो भी जरूरी अधिकार कैंपस सेलेक्शन में चाहिए वह सरकारी बैंकों के पास नहीं हैं. उन्होंने कहा कि सरकार कानूनी सलाह ले रही है, पर अभी हम ऐसा करने में असमर्थ हैं।

Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: