1. 2011 की जनगणना के धार्मिक आंकड़ों के अनुसार भारत के 1.21 अरब लोगों में से 28.7 लाख लोग खुद को किसी भी धर्म का अनुयायी नहीं मानते हैं। यह कुल आबादी का 0.24 फीसदी है। 2011 की जनगणना के फॉर्म में पहली बार किसी धर्म को न मानने वालों का कॉलम जोड़ा गया था। इस आंकड़े में नास्तिक, तर्कवादी और किसी धर्म में रुचि न रखने वाले पर किसी 'अज्ञात शक्ति' में भरोसा करने वाले लोग शामिल हैं। देश के ग्रामीण इलाकों में शहरों के मुकाबले किसी धर्म को न मानने वाले अधिक लोग हैं। गांवों में लगभग 16.45 लाख लोग किसी धर्म को नहीं मानते तो शहरों में इनकी संख्या लगभग 12.24 लाख है। उत्तर प्रदेश में दूसरे राज्यों की तुलना में किसी धर्म को न मानने वाले लोगों की संख्या (5.83 लाख) सबसे अधिक है।
2. सेशेल्स के राष्ट्रपति जेम्स एलिक्स माइकल भारत की तीन दिन की राजकीय यात्रा पर नई दिल्ली पहुंचे। उनकी यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच करों के संबंध में एक सूचना विनिमय समझौते, एक डोर्नियर विमान की आपूर्ति के लिए समझौता ज्ञापन, एक हवाई सेवा करार, नीली अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में सहयोग की रूपरेखा पर एक प्रोटोकॉल और कृषि अनुसंधान तथा शिक्षा से संबंधित एक एमओयू सहित पांच समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेशेल्स को एक और तटरक्षक पोत और दूसरा डोर्नियर विमान भेंट करने की घोषणा की।
3. यूनिसेफ ने विश्व के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच को बच्चों के लिए संयुक्त राष्ट्र कोष का सदभावना दूत नियुक्त किया है। वह अपनी नयी भूमिका में बच्चों के अधिकार और विकास पर ध्यान देंगे। 28 वर्षीय सर्बियाई पहली बार 2011 में यूनिसेफ से जुड़े थे। तब उन्हें यूनिसेफ का सर्बिया में दूत नियुक्त किया गया था। पहले ही उन्होंने यूनिसेफ सर्बिया राजदूत के रूप में अपनी भूमिका में कमजोर बच्चों की मदद के लिए काम किया है।
4. केन्या के पुलिसकर्मी निकोलस बेट ने विश्व मंच पर एक बाधा दौड़ में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले केन्याई बनकर चीन में इतिहास रच दिया। बेट ने बीजिंग में 15वीं आईएएएफ विश्व चैंपियनशिप में पुरुषों की 400 मी. बाधा दौड़ में रूस के डेनिस कुद्रयावत्सेव को पीछे छोड़ते हुए 47.79 सेकंड में चैंपियनशिप जीती। कुद्रयावत्सेव ने 48.05 सेकंड के साथ रजत और बहामास के जेफरे गिब्सन ने 48.17 सेकंड के समय के साथ कांस्य पदक जीता।
5. देश के निजी क्षेत्र के सबसे बड़े ऋणदाता आईसीआईसीआई बैंक ने पहला मॉर्टगेज गारंटी-बैक्ड होम लोन प्रोडक्ट पेश किया है। इसके माध्यम से ग्राहक अधिक शुल्क देकर ऋण की राशि और अवधि बढ़ा सकेंगे। आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक और सीईओ चंदा कोच्चर के अनुसार इस प्रोडक्ट से ग्राहकों को ऋण राशि 20 फीसदी और अवधि 7 साल तक बढ़ाने में मदद मिलेगी। ‘आईसीआईसीआई बैंक एक्सट्रा होम लोन्स’को शुरुआत में एकमुश्त मॉर्टगेज गारंटी शुल्क देने के बाद हासिल किया जा सकता है।
6. नीरजा माथुर ने गोवा और संघ शासित प्रदेशों के संयुक्त विद्युत नियामक आयोग (जेईआरसी) के सदस्य का पदभार संभाल लिया। विद्युत, कोयला और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पीयूष गोयल ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। वह नवम्बर, 2013 से दिसम्बर, 2014 तक सीईए की अध्यक्ष रहीं। संयुक्त विद्युत नियामक आयोग (जेईआरसी) दिल्ली के अलावा सभी केन्द्र शासित प्रदेशों के लिए विद्युत नियामक संस्था है।
7. डॉ. गिरीश साहनी ने वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) के महानिदेशक और विज्ञान तथा तकनीकी मंत्रालय के वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान विभाग (डीएसआईआर) के सचिव पद का कार्यभार संभाल लिया। इससे पहले साहनी सीएसआईआर-सूक्ष्म जीव प्रौद्योगिकी संस्थान (सीएसआईआर-इमटेक), चंड़ीगढ़ में निदेशक के पद पर थे। 
28 August 2015 Current Affair Updates | Daily GK Download
28 August 2015 Current Affair Updates | Daily GK Download
8. भारतीय मूल के अमेरिकी किशोर पैरी अल्गापन को 2015 का स्टॉकहोम जूनियर वॉटर प्राइज, जिसे 'पानी का नोबेल पुरस्कार' के रूप में भी जाना जाता है, प्रदान किया गया। जबकि "भारत के जलपुरुष" के नाम से प्रसिद्ध राजेंद्र सिंह को सीनियर वर्ग में सम्मान दिया जाएगा। स्वीडन की राजकुमारी विक्टोरिया ने स्टॉकहोम में विश्व जल सप्ताह के दौरान एक पुरस्कार समारोह में ट्रॉफी भेंट की। 
9. डीआरडीओ मिसाइल परिसर की हवाई जहाज प्रयोगशाला, अनुसंधान केंद्र इमारत (आरसीआई) ने पीएसयू शिखर सम्मेलन अवार्ड 2015 प्राप्त किया। आरसीआई निदेशक जी. सतीश रेड्डी ने नई दिल्ली में इलेट्स टेकनोमीडिया के दूसरे वार्षिक पीएसयू शिखर सम्मेलन के दौरान प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त किया। आरसीआई को ईआरपी और आईसीटी के पदोन्नति के माध्यम से संगठन के आईटी समर्थकारी के प्रति अपने मौलिक योगदान के लिए इस पुरस्कार के लिए चुना गया था।

10. भारोत्तोलन के इतिहास में पहली बार भारत को एक अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट की मेजबानी मिली है जो पुणे में 11 से 15 अक्तूबर तक राष्ट्रमंडल युवा, जूनियर और सीनियर भारोत्तोलन चैम्पियनशिप की मेजबानी करेगा। भारत इसमें 40 भारोत्तोलक उतारेगा जिनमें 11 युवा, 16 जूनियर और 13 सीनियर हैं।
Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: