नीचे दिए गए परिच्छेद में कुछ रिक्त स्थान दिए गए हैं तथा उन्हें प्रश्न संख्या से दर्शाया गया है। ये संख्याएं परिच्छेद के नीचे मुद्रित हैं, और प्रत्येक के सामने (1), (2), (3), (4) और (5) विकल्प दिए गए हैं। इन पांचों में से कोई एक इस रिक्त स्थान को पूरे परिच्छेद के संदर्भ में उपयुक्त ढंग से पूरा कर देता हैं आपको वह विकल्प ज्ञात करना है और उसका क्रमांक ही उत्तर के रूप में दर्शाना है। आपको दिए गए विकल्पों में से सबसे उपयुक्त का चयन करना है।

कहा जाता है कि ‘स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का वास होता है।’ समाज की इस सबसे अहम जरूरत के प्रति शासकों की उपेक्षापूर्ण दृष्टि और नीति ने (--1--) वर्ग को हमेशा भाग्य भरोसे ही रख छोड़ा है। आर्थिक भूमंडलीकरण की नीतियां लागू होने के बाद लोक कल्याण की अवधारणा जैसे-जैसे सिमटती जा रही है। व्यवसायीकरण और मुनाफे की (--2--) ने इस क्षेत्र में मानवीय (--3--) और सहानुभूति के लिए कोई जगह नहीं छोड़ी है।


आजादी के इतने वर्षों के बाद भी अधिकतर राज्यों की अपनी कोई स्वास्थ्य नीति नहीं होना शासक वर्ग की इस क्षेत्र के प्रति लापरवाही और गैरजिम्मेदारी का सबूत है। जन-स्वास्थ्य के प्रति अपने उत्तरदायित्व का (--4--) करते हुए राज्य सरकारों को इस क्षेत्र में (--5--) कारगार उपाय करने चाहिए और सबसे पहले हरेक राज्य को अपनी परिस्थितियों और जरूरतों को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य नीति की घोषणा करनी चाहिए।


इन नीतियों के मूल में स्वास्थ्य सेवाओं को सरकार की जिम्मेदारी बनाने के अलावा व्यावसायिक लूटपेशेवर मुनाफाखोरी पर प्रभावी (--6--) और नियंत्रण होना चाहिए। प्राथमिक स्वास्थ्य जरूरतों पर ध्यान नहीं दिए जाने से छोटी-छोटी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए ‘विशेषज्ञों’ पर (--7--) बढ़ रही हैजिनकी पहले से ही कमी है। इससे गरीब और वंचित वर्ग की (--8--) और बढ़ गई हैं और वे नीम-हकीमों पर ही निर्भर रहने को मजबूर हैं। इसके निदान के लिए ग्रामीण और झुग्गी या गरीब बस्ती वाले क्षेत्रों में खासतौर पर प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा केंद्र के विस्तार और उनके ठीक से काम को सुनिश्चित करने की आवश्यकता है।


स्वास्थ्य सेवाओं के लिए सकल घरेलू उत्पाद का मात्र 1.04 फीसद खर्च किया जाता है। यानी स्वास्थ्य के लिए नगण्य व्यय सरकार की अपनी जिम्मेदारी के प्रति औपचारिकता निर्वाह का (--9--) भर है। इसमें वृद्धि के बजाय पिछले बजट में इस मद में भारी कमी कर दी गई। देश में जीवनरक्षक दवाइयों का मूल्य (--10--) ड्रग प्राइस कंट्रोल आर्डर के माध्यम से एनपीपीए यानी नेशनल फार्मास्यूटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी करती है।
Hindi Passage For IBPS RRBs-CWE-IV 2015 Exam Preparation
Hindi Passage For IBPS RRBs-CWE-IV 2015 Exam Preparation



प्र.1. (1) संभ्रांत    (2) युवा       (3) वंचित     (4) कृषक     (5) श्रमिक


उत्तरः (3) वंचित


प्र.2. (1) उदारता      (2) उपलब्धता (3) रकम      (4) प्रवृत्ति      (5) जिज्ञासा 


उत्तरः (4) प्रवृत्ति


प्र.3. (1) तत्परता    (2) संवेदना    (3) संस्कार   (4) व्यवहार    (5) संबंध 


उत्तरः (2) संवेदना


प्र.4. (1) दमन     (2) गबन      (3) निर्वाह     (4) उपहास    (5) सम्मान


उत्तरः (3) निर्वाह


प्र.5. (1) उचित   (2) अविलंब    (3) ज्यादा     (4) कठोर      (5) नित्य 


उत्तरः (2) अविलंब


प्र.6. (1) नियमन  (2) समाधान  (3) बहस      (4) तंत्र       (5) प्रशासन 


उत्तरः (1) नियमन


प्र.7. (1) आशंका      (2) निर्भरता    (3) अविश्वास   (4) जिम्मेदारी    (5) सख्ती 


उत्तरः (2) निर्भरता


प्र.8. (1) मुसीबतें      (2) बीमारियां         (3) इच्छाएं    (4) आशाएँ     (5) संभावनाएँ


उत्तरः (1) मुसीबतें


प्र.9. (1) दायित्व   (2) अधिकार         (3) प्रतीक     (4) विश्वास    (5) सम्मान 


उत्तरः (3) प्रतीक


प्र.10. (1) परिवर्तन     (2) समायोजन        (3) अनुमान   (4) वितरण    (5) निर्धारण


उत्तरः (5) निर्धारण
Axact

न्यूज़ टेक कैफ़े

यहां पर हम हिंदी में टी वी की नई जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। कृपया हमारे ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।ादा से ज्यादा शेयर करें

Post A Comment:

0 comments: